ग्रीन टी के फायदे, नुकसान एवं बनाने की विधि – Green Tea Ke Fayde

आप लोगो का yourhelp.in में स्वागत है | अधिकतर लोग अपनी सुबह की शुरुआत चाय से शुरू करते हँ  और यदि चाय के विकल्प की बात करे तो सेहतमंद ग्रीन टी का नाम सबसे पहले आता हँ | इसमें पर्याप्त मात्रा में  एंटीऑक्सीडेंट्स और फायदेमंद पॉलिफेनॉल्स मौजूद होते हँ | जब फिटनेस और स्वास्थय की बात होती ह तो सबसे पहले ग्रीन टी का नाम आता हँ | ग्रीन टी से होने बाले फायदों की वजह से दुनिया भर Green Tea Ke Fayde  ग्रीन टी का उपयोग  बढ़ रहा हँ | 

ग्रीन टी के सेवन से कई तरह की बीमारी जैसे कैंसर से बचाव में सहयता करता हँ | ग्रीन टी पिने से मानसिक, पाचन और दिल की बीमारियों में सुधार होता हँ | इससे शरीर के तापमान को भी नियंत्रित किया जाता हँ | 

वजन कम करने में सबसे पहले जिसका नाम लिया जाता हँ वह ग्रीन टी हँ | ग्रीन टी में प्रचुर मात्रा में पॉलीफेनोल्स पाया जाता जिसके कारण कैंसर जैसी बीमारियों की कोशिकाओं को नष्ट करने में एवं बढ़ने न देने में मदद मिलती हँ |

ग्रीन टी पिने के फायदे – Green Tea Ke Fayde

ग्रीन टिया के फायदे तो बहुत हँ लेकिन पुराने समय में भारत और चीन में इसका उपयोग बहते हुए खून को रोकने, घावों को ठीक करने में, पाचन क्रिया में सहायता प्रदान करने में, दिल और मानसिक स्वास्थ की  सेहत को सुधारने में, साथ-साथ शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में किया जाता था | 

यह मोटापे और मधुमेह रोजो को नियंत्रित करने में सहायता मिलती हँ, और यह कई पुराने रोगो में भी सहयता प्रदान करती हँ | ग्रीन टी का उपयोग  आतंरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ त्वचा और बालों के लिए भी सही सावित हो सकता हँ | नीचे ग्रीन टी से होने वाले शारीरिक फायदों के बारे में बताया गया है। 

दिमाक के लिए ग्रीन टी के फायदे – Green Tea Ke Fayde 

ग्रीन टी पिना मस्तिष्क के लिए भी लाभकारी हो सकता है। हमारे दिमाक को अच्छे तरीके से कार्य करने के लिये स्वस्थ रक्त वाहिकाओं की जरूरत होती है | एक अध्ध्यन के अनुसार यह पता लगाया गया ह की जो भी लोग नियमित रूप से हरी चाय का सेवन करते हँ, उनके मष्तिस्क वाले भाग में गतिविधि पूर्ण रूप से पायी जाती है |  

 ग्रीन टी चिंता को कम करने के साथ-साथ मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में सुधार कर सकती है। इसके अतिरिक्त, यह हमारी एकाग्रता बढ़ाने में भी सहायता प्रदान करती है |  

यह भी पढ़े: 7 High benefits of apple in Hindi

ग्रीन टी का लाभ पेट कम करने के लिए 

ग्रीन-टी को पीना हमारे वजन कम करने में फायदेमंद हो सकता  है। इसमें उपस्थित  एंटी-ऑक्सीडेंट, मेटाबॉलिज्म की मात्रा में वृद्धि कर के वजन कम करने में मदद कर सकता है।

ग्रीन टी में उपस्थित कैटेचिन और कैफीन का मिश्रण हमारे शरीर में गर्मी उतपन्न करता हँ | उतपन्न होने वाली गर्मी को अधिक कैलोरी को नष्ट/जलाने में मदद मिलती हँ | 

मधुमेह में ग्रीन टी का उपयोग – Green Tea Ke Fayde

मधुमेह में से ग्रसित रहने वालो लोगो में ग्रीन टी रक्त में उपस्थित शर्करा को स्थिर बनाने में मदद करती हँ | ग्रीन टी में एंटी-डायबिटिक गुण उपस्थित होते हैं, जो खून में ग्लूकोज के स्तर को कम करने सहयता पर्सन करते हँ |

 हमारे शरीर के रक्त शर्करा में लगातार हो रही वृद्धि के कारण आँखे , गुर्दे और दिल के लिए कठिनाई सावित हो सकती हँ, हरी चाय इसमें होने बलि बृद्धि को रोकने में मदद करती  हँ | मधुमेह से ग्रसित कोगो को ग्रीन टी का उपयोग अवश्य करना चाहिए | 

यह भी पढ़े: जैतून का तेल Benefits And Uses In Hindi

कैंसर का सटीक इलाज है, ग्रीन टी 

पहले तो हम इस बात को नजरअंदाज  नहीं कर सकते हैं कि कैंसर एक गंभीर बीमारी है। इसके इलाज के लिए सिर्फ घर पर किये जाने वाले उपचार पर निर्भर रहना गलत सावित हो सकता हँ।

ग्रीन टी में पॉलीफेनॉल की उपस्थिति अधिक होती जो कैंसर की कोशिकाओं को मारने में मदद करता हँ | इसमें उपस्थित पॉलीफेनॉल ट्यूमर की वृद्धि को रोकता हँ और पैराबैंगनी किरणों से होने वाली क्षति से बचाव करता हँ | 

ग्रीन टी के प्रकार 

चाय के अनेक प्रकारों में से एक ग्रीन टी हँ, जिसका उपयोग आमतौर पर दुनिया भर में किया जाता हँ | ग्रीन टी का उत्पादन और फसल के अनुसार इसके प्रकार निम्न है 

  • Sencha
  • Fukamushi sencha 
  • Gyokuro 
  • Matcha 
  • Kabusecha 

ग्रीन टी निम्न रूप में उपलब्ध है 

  • चाय  बैग के  रूप में 
  • चाय के पत्ते के रूप में 
  • चूर्ण/पाउडर के रूप में 

ग्रीन टी निम्न रूप में उपलब्ध हँ –

  • चाय  बैग के  रूप में 
  • चाय के पत्ते के रूप में 
  • चूर्ण/पाउडर के रूप में 

ग्रीन टी  से होने वाले नुकसान –

  • ग्रीन टी में टैनिक की उपस्थिति के कारण यदि आप ग्रीन टी को खाने से पहले पीते हँ  तो पेंट दर्द और कब्ज हो  | 
  • इसमें कैफीन की मात्रा होती इसको ज्यादा पीने से आप अनिंद्रा, उल्टी ,दस्त और लगातार पेशाब आने वाली समस्या उत्पन्न हो सकती है | 
  • हरी चाय में कैटेचिस उपस्थित के कारण भोजन से लोहे की मात्रा को अवशोषण करने में कमी आ जाती है | 

   बनाने की विधि 

  1. सबसे पहले पानी को उबाल ले | 
  2. उसके बाद एक कप में ग्रीन टी का बैग या पत्ती डाले | 
  3. फिर उबला हुए पानी को कप में डाले और कप को हिलाये | 
  4. 1 – 2 मिनट तक कप को ढक दें | 
  5. 2  मिनट  से ज्यादा  रखने पर चाय कड़वी हो सकती है | 
  6. आपकी ग्रीन टी तैयार हँ इसको छान कर या टी बैग को निकाल दें | 

 

              तो आपने ये तो देख ही लिया होगा की  Green Tea ke Fayde कितने है इसलिए आपको अपने रोजाना की प्रतिक्रिया में हरी चाय को को पीना चाहिए जिसके आपने आपका स्वास्थ अच्छा  रहे | और आपको कई प्रकार की होने वाली समस्याओ से राहत मिले | 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *