harnia in hindi

हर्निया,एक खतरनाक बीमारी,कारण और उपचार- harnia in hindi

दोस्तों your help में आपका स्वागत है। आज की चर्चा का विषय harnia in hindi है|

इंसानी शरीर में कुछ खोखले स्थान होते है जिन स्थानों में महत्व पूर्ण अंग स्थित होते है| इन स्थानों को देहगुहा(body cavity) कहते है ये स्थान एक चमड़े झिल्ली से ढके हुए रहते है ये झिल्ली कभी-कभी फट जाती है और उस अंग का कुछ भाग बाहर निकल जाता है जो की काफी बुरी स्तिथि हो जाती है इस स्तिथि को हर्निया कहते है|

हर्निया बीमारी -Harnia In Hindi

हर्निया के लक्षण

 हर्निया विभिन्न प्रकार से होता है जैसे हर्निया के स्थान पर गोल उभार होना, कुछ उतरने जैसा अनुभव होता और उस उभार वाले स्थान पर आंत्र कुंजन सुनाई देती है तथा थपथपाने पर आवाज़ सुनाई देती है इस स्तिथि हर्निया कहा जाता है| 

सामान्यतः हर्निया स्त्री या पुरुष किसी को भी हो सकता है जब इंसान की पेट की मसल कमजोर हो जाती है तब या कोई डिफेक्ट हो जाता है तब हर्निया की समस्या उत्पन्न होती है| 

हर्निया के संकेतो को पहचानने के लिए आपको डॉक्टर से परामर्श लेने की सख्त आवश्कता है जितनी जल्दी आप इसकी जांच करवा के डॉक्टर से इलाज कराये| और इसकी को सधाराण  न समझे|  

 

हर्निया के प्रकार-

मेडिकल विज्ञान में आज तक कई तरह के हार्नया के बारे में जानकारी मिल सकीय है| \

  • अम्बिलिकल हर्निया , ये अधिकतर छोटे बच्चो में पाया जाता है, और इसका अधिक खतरा 6 महीने से कम के बच्चो में अधिक रहता है| 
  • स्पोर्ट्स हर्निया पेट के निचले हिस्से और झांग के बिच के भाग में अधिकतर पाया जाता है ये भी सही समय पर उपचार ना करने पर जानलेवा साबित हो सकता है 
  • इंसीजनल हर्निया पेट की सर्जरी के बाद इसकी संभावना बढ़ जाती है या इसकी संभावना लगी रहती है
  • हाइटल हर्निया, यह पेट के हिस्से में डायफ्राम के माध्यम से छाती तक पहुंच जाता है और पेट की मंश्पेसिया पर प्रभाव डालता है|

अन्य भी कई प्रकार है जो की बहुत ही कम स्तिथि में पाए जाते है | 

यह भी पढ़े: 17+तरीके जो आपको 100 बीमारियो से बचायेंगे

 

हर्निया सामान्यतः क्यों होता है:-

  • हर्निया जन्मजात भी हो सकता है| 
  • हर्निया मांशपेशियों की कमजोरी और तनाव के सयोग के कारन भी हो सकता है| 
  • हर्निया समय के साथ पेट की कमजोर दीवार या पेट के हिस्से में विकसित हो जाता है पेट की गुहा में अधिक दबाव हो जाने से हर्निया बढ़ सकता है| 
  • हर्निया मंश्पेसियो की कमजोरी और तनाव के सयोंग से होता है | 
  • हर्निया की विकसित होने की गति उसके होने के करन पर निर्भर करती है 

 

  • भरी वजन उठाने के कारन भी  समस्या उत्पन्न हो सकती है| 
  • पेट में द्रव या जलोदय होने की वजह से भी हर्निया हो सकता है | 
  • अचानक वजन बढ़ने की स्थति में भी हर्निया की संभावना बढ़ जाती है| 

यह भी पढ़े: तिल का तेल आपके लिए है वरदान

उपचार:- 

हर्निया का उचार या तो आपने आप हो जाता है या अस्पताल में इसका करवाना पड़ता है | ये इस चीज पर निर्भर करता है की हर्निया कितना गंभीर है या इसके होने का कारन क्या है | 

हर्निया के उपचार के कई प्रकार हो सकते है जैसे जीवनशैली में बदलाव, दवाईया और सर्जरी आदि | 

डॉक्टर ने नियमित रूप से परामर्श लेना जरुरी है| 

  • हर्निया का उपचार जीवनशैली में बदलाव करके भी किया जा सकता है जीवनशैली में बदलाव के जरिये हाइटल हर्निया का इलाज संभव है परन्तु इससे लम्बे समय के इसका उपचार संभव नहीं है| 

रोगी ध्यान रखे की वो अधिक खाना या भरी खाना ना खाये और खाना खाने के बाद झुके नहीं और मुड़ने से बचे| सीने में जलन पैदा होने वाले आइटम  खाये| और धूम्रपान अदि  नशा ना करे| 

  • हर्निया के मरीजों के कुछ ओवर था काउंटर दवाइया निम्न है जैसे एंटीएसीड्स, H-2 रिसेप्टर ब्लॉकर्स और PPI शामिल है ये सभी दवाइया पेट में अमल की मात्रा काम करने में सहायक होती है और हर्निया को काम करने में मदद गार होती है| 
  • अगर हर्निया बढ़ता जा रहा हो तो इसका अंतिम इलाज सर्जरी के माध्यम से होना ही संभव है| ओपन सर्जरी या लप्रोस्कोपिक सर्जरी से इसका इलाज किया जाता है| 
  • हर्निया के इलाज के लिये डॉक्टर कुछ दवाइयो की सलाह देते है| 
  • हर्निया का इलाज डॉक्टर सर्जरी के माध्यम से करते है। सर्जरी में भी दो तरह का सर्जरी होता है। ओपन सर्जरी और लेप्रोस्कोपिक सर्जरी।
  • हर्निया के उपचार के लिए चिकिस्तक कुछ दवाइयों की खुराक लेने की सलाह दे सकते है। जिनमे एच 2 रेसेप्टर ब्लॉकर्स व एंटासीड्स जैसी दवा शामिल है। यह हर्निया के लक्षण को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा पेट के अम्ल की मात्रा को भी कम करता है
  • हर्निया के शुरुवाती लक्षण नजर आये, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करे और हर्निया का इलाज करवाये| 

हर्निया सर्जरी से ठीक होने में कितना समय लगता है?

हर्निया की मरम्मत की सर्जरी के बाद, हल्के से मध्यम दर्द का अनुभव करना और थोड़ा नीचे की ओर महसूस होना आम है। ठीक होने पर प्रभावित क्षेत्र में खिंचाव या मरोड़ महसूस होना भी आम है।

हालांकि, अधिकांश लोग सर्जरी के एक सप्ताह के भीतर कुछ दिनों में बेहतर महसूस करते हैं और काफी बेहतर महसूस करते हैं।

हर्निया की रिकवरी

हर्निया सर्जरी के बाद रिकवरी का समय कारकों के आधार पर भिन्न होता है जैसे:
आपको हर्निया का प्रकार है।
वंक्षण हर्निया सबसे आम प्रकार का हर्निया है और आमतौर पर कम जटिलताएं होती हैं।
आपने जिस प्रकार की सर्जरी की थी।
आमतौर पर, जिन लोगों की लेप्रोस्कोपिक या रोबोटिक हर्निया सर्जरी होती है, वे ओपन सर्जरी कराने वाले रोगियों की तुलना में जल्दी ठीक हो जाते हैं।
तुम्हारा उम्र।
छोटे रोगी आमतौर पर वृद्ध लोगों की तुलना में तेजी से ठीक होते हैं।
आपका समग्र स्वास्थ्य।
अपेक्षाकृत स्वस्थ रोगी सह-मौजूदा स्थितियों वाले लोगों की तुलना में जल्दी ठीक हो जाते हैं।
आपके हर्निया सर्जन का अनुभव स्तर।
शोध से पता चलता है कि एक अनुभवी हर्निया सर्जन के साथ हर्निया की सर्जरी कराने से प्रतिकूल घटनाओं का खतरा कम होता है।

पुरे आर्टिकल में दी गयी जानकारी पूरी तरह से अनुभवी डॉक्टर से ली गयी है| आप इस जानकारी का उपयोग कर सकते है| harnia in hindi की तरह अन्य कई तरह के हमने ऐसे ही उपयोगी आर्टिकल लिखे है| आप उन्हें भी पढ़ सकते है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *