tified ke lakshan in hindi

टाइफाइड के कारण और उपचार-Tified ke lakshan in hindi

दोस्तों YourHelp में आपका स्वागत है आज की चर्चा का विषय है tified ke lakshan in hindi

 टाइफाइड बैक्टीरिया से फैलने वाली बीमारी है टाइफाइड पाचन तंत्र और ब्लड स्ट्रीम में बैक्टीरिया के इंफेक्शन की वजह से होता है गंदे पानी संक्रमित या किसी पदार्थ के पीने से यह व्यक्ति या हमारे शरीर में फैलता है टाइफाइड के लक्षण शुरू हो जाते हैं| जिस सी परेशानिया हो सकती है| 

टाइफाइड एक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल संक्रमण है जो साल्मोनेला के कारण होता है। तेज बुखार, दस्त और उल्टी टाइफाइड के मुख्य लक्षण हैं। दूषित पानी या भोजन के माध्यम से यह जीवाणु संक्रमण होने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है। टाइफाइट मुंह के माध्यम से आपकी आंतों में प्रवेश करती है और वहां लगभग एक से तीन सप्ताह तक रहती है।

 यह तब आंतों की दीवार के माध्यम से आपके रक्तप्रवाह में प्रवेश करता है। रक्त के माध्यम से, इन टाइफाइड बैक्टीरिया अन्य ऊतकों और अंगों और छिपाने कोशिकाओं के अंदर है, जो आपका प्रतिरक्षा कोशिकाओं पता नहीं लगा सकते में फैल गया। वहाँ बेहतर उपचार टाइफाइड लिए उपलब्ध है। हालांकि, अगर अनुपचारित छोड़ दिया जाता है, तो यह आपके लिए घातक हो सकता है। टाइफाइड की संभावित जटिलताओं गुर्दे की विफलता, गंभीर सैनिक खून बह रहा है, आदि शामिल हैं|

टाइफाइड एक खतरनाक बीमारी-tified ke lakshan in hindi

टाइफाइड के कारण

टाइफाइड बुखार भोजन या पानी के बैक्टीरिया साल्मोनेला टाइफी, या इस जीवाणु से संक्रमित व्यक्ति के साथ निकट संपर्क से से संक्रमित की घूस से फैलता है। वहीं यह संक्रमण दूषित भोजन के कारण भी हो सकता है। पाचन तंत्र तक पहुंचकर, इन जीवाणुओं की संख्या बढ़ जाती है। शरीर के अंदर, इन जीवाणुओं एक अंग से दूसरे में पहुंच जाते हैं।

टाइफाइड बुखार पाचन तंत्र और खून में जीवाणु संक्रमण के कारण होता है। टाइफाइड एक पानी और खाद्य जनित रोग है। इस रोग में, साल्मोनेला टाइफी नामित बैक्टीरिया गंदा पानी और भोजन के माध्यम से शरीर में प्रवेश करने से पाचन तंत्र को प्रभावित करते हैं। हालांकि इस रोग के लक्षणों के सबसे प्रभामंडल के समान हैं।

टाइफाइड के लक्षणों में मुख्य रूप से निम्न लक्षण शामिल है| 

सिर दर्द होना, कब्ज होना, तेज बुखार (103 डिग्री), भूख ना लगना लीवर और का बढ़ जाना, सीने पर लाल रंग के निशान होना, थकान होना, ठंड न  लगना, दर्द और कमजोरी महसूस होना, पेट में दर्द होना|  

यह भी पढ़े: giloy ke fayde

टाइफाइड के उपचार

घरेलू 

यदि आपको टाइफाइड प्रारंभिक स्थिति में है तो आप इसका उपयोग उपचार घरेलू नुक्से से भी कर सकते हैं इसके लिए आपको अपने दिनचर्या में ताजे फलों का रस और जूस और हर्बल चाय आदि का सेवन करना चाहिए | 

जयदा बेहतर यह होगा की आप इससे होने वाले कारणों से ही बचना चाइये और खराब पानी पिने से बचे क्योकि यह बीमारी आज के टाइम में आम बात हो चुकी है|

टाइफाइड आपको तब होता है आप कहीं का खराब पानी या फिर गंदा खाना खाते हैं. दरअसल एक साल्मोनेला टाइफी नाम के एक बैक्टीरिया के कराण ये होता है. ये बीमारी वैसे तो आजकल बेहद आम हो कई है लेकिन अगर आपने इस दौरान अपना ख्याल नहीं रखा तो ये जानलेवा भी साबित हो सकती है| , जीवनशैली में बदलाव, उचित स्वच्छता बनाये रखें,अपने हाथों को गर्म साबुन युक्त पानी से धोएं।-साफ उबला पानी पीएं, या केवल बोतल बंद पानी पिएं, कच्चा आहार न लें।

यह भी पढ़े: baking soda in Hindi

दवाइयां

टायफाइड का उपचार एंटीबायोटिक (Antibiotics) दवा के साथ किया जाता है जो बैक्टीरिया को मारती हैं। उचित एंटीबायोटिक थेरेपी (anitbiotics Therapy) के साथ, आमतौर पर एक से दो दिनों के भीतर ही सुधार शुरु जाता है और 7 से 10 दिनों के भीतर ठीक होती है । लगभग 10% रोगियों में इलाज के बावजूद, एक या दो सप्ताह के लिए बेहतर महसूस करने के बाद टाइफाइड के लक्षण दुबारा शुरू हो जाते हैं । अगर टाइफाइड के लक्षण दुबाराआते है तो एंटीबायोटिक्स दुबारा लेनी चाहिये ।

कुछ लोगो में टाइफाइड बैक्टीरिया (Bacteria) कैर्रिएर स्टेट (Carrier State) में बना रहता है, इस स्थिति में लम्बे समय तक लिए एंटीबायोटिक (Antibiotics) लेनी चाहिए । अक्सर संक्रमण (Infection) को ठीक करने के लिए गाल ब्लैडर (Gall Bladder) को हटाना पड़ता है , जोकि संक्रमण (Infection) की साइट है ।

मैं आपने देखा कि कि किस तरह आप टाइफाइड जैसी खतरनाक बीमारी से बच सकते हो और किस तरफ आप यदि इस बीमारी से ग्रसित हो जाते हो तो इसका इलाज भी आपको यहां मिल जाएगा| टाइफाइड जैसी अनेक बीमारियों नहीं टाइफाइड जैसे अनेक बीमारियां आज के समय में काफी आम बात हो चुकी है और यदि सर्वे का कोडिंग देखा जाए तो यह बीमारियों इन बीमारों से ग्रसित लोगों की संख्या का आंकड़ा लगाना असंभव से लेकर मुश्किल है|

Health Tips in Hindi

टाइफाइड की कमजोरी से कैसे उबरें?

टाइफाइड के संक्रमण के कारण तेज और बार-बार बुखार आता है और साथ में भूख भी कम लगती है। इसके बाद, रोगी कमजोरी और वजन घटाने का गवाह बनता है जो ठीक होने के बाद महीनों तक बना रह सकता है।

टाइफाइड का आज तक का एकमात्र इलाज एंटीबायोटिक्स हैं। हालांकि, जब एक सख्त स्वस्थ आहार योजना के साथ, यह तेजी से ठीक हो सकता है। यहां बताया गया है कि बुजुर्गों में टाइफाइड की कमजोरी से तेजी से कैसे उबरें।

तरल पदार्थ का सेवन बढ़ाना

चूंकि डायरिया टाइफाइड संक्रमण के सबसे लोकप्रिय लक्षणों में से एक है, इसके परिणामस्वरूप शरीर से पानी की अत्यधिक कमी हो सकती है, जिससे निर्जलीकरण हो सकता है। हालांकि, फलों और सब्जियों के रस, सूप, छाछ, जौ के पानी और इलेक्ट्रोलाइट फोर्टिफाइड पानी जैसे तरल पदार्थों का सेवन बढ़ाकर इससे बचा जा सकता है। इसके अलावा, आप सीधे तरबूज या अंगूर जैसे पानी से भरपूर फल खा सकते हैं। टाइफाइड दोष के ठीक होने में तेजी लाने के लिए अपने शरीर को फिर से हाइड्रेट करना सबसे अच्छा तरीका है।

उचित टीकाकरण

ऐसे कई मामले हैं जहां लोग अपनी दवा का पूरा कोर्स पूरा नहीं करते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि लक्षण गायब हो गए हैं। हालांकि, ऐसा करना सही नहीं है क्योंकि संक्रमण का कोई लक्षण या लक्षण दवाओं का प्रभाव नहीं हो सकता है। इसलिए, कृपया आगे की कार्रवाई के लिए परामर्शदाता चिकित्सक से बात करें। डॉक्टर शरीर के अंदर बैक्टीरिया की उपस्थिति की जांच के लिए फिर से परीक्षण करने की सलाह दे सकते हैं।

उच्च कैलोरी आहार

टाइफाइड की कमजोरी से जल्दी ठीक होने का एक और बढ़िया तरीका है कैलोरी युक्त आहार लेना। कैलोरी शरीर को ऊर्जा और ताकत देने के लिए जानी जाती है, जिससे टाइफाइड संक्रमण के कारण होने वाली कमजोरी और वजन घटाने में मदद मिलती है। टाइफाइड की कमजोरी के ठीक होने के समय में तेजी लाने के लिए उबले हुए आलू, सफेद ब्रेड और केले जैसे कैलोरी युक्त खाद्य पदार्थ रखने की कोशिश करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *